Pages

हम आपके सहयात्री हैं.

अयं निज: परो वेति गणना लघुचेतसाम्, उदारमनसानां तु वसुधैव कुटुंबकम्

Tuesday, April 20, 2010

हसबैंड वाईफ चैटिंग

बहुत दिनों से हास्य की रसोई में कुछ नया खिचड़ी नहीं पका. सो एक पुराना अनुभव दे रहा हूँ, जब Windows की समस्याओं से परेशान होकर एक हास्य  रचना इस प्रकार अवतरित हुई थी..... उन दिनों चैटिंग का मजा बेचलर्स ज्यादा उठाते थे.... लेकिन अब तो हसबैंड मशीनी हो गए...




पत्नी:  Hello
पति:  वेलकम टू  माय ऑफिस (XP)
पत्नी:  और बताओ कैसे हो
पति:  कृपया
पहले लॉगिन करें
पत्नी:  एक ज़रूरी बात सुनो. घर पर कुछ मेहमान आये हैं. शाम को जल्दी लौटना.
पति:  नो गेस्ट यूजर्स आर अलाउड टू एक्सेस.
पत्नी:  और सुनो, घर लौटना तो कुछ पैसे लेकर आना. मुझे कुछ खरीदारी करनी है.
पति: 
सॉरी! देअर इज नोट इनफ मेमरी (मनी) टू रन योर प्रोग्राम.
पत्नी:  मजाक बाद में करना. मैं इंतज़ार करुँगी, जल्दी आना और पैसे भूलना नही.
पति: 
योर रिक्वेस्ट हैज़ नोट बीन डेलीवर्ड. प्लीज चेक योर नेटवर्क कांफीग्रेशन.
पत्नी:  कहां हो तुम?
पति: 
द पेज केन्नोट बी डिसप्लेड.
पत्नी:  मैं पूछ रही हूं, कहां हो तुम?
पति: 
क्लिक "येस" टू कांटीन्यू ओर प्रेस "कैंसल" टू क्विट द प्रोग्राम .
पत्नी:  ओफ्फ़! क्या मुसीबत है.
पति:  सर्वर बिजी. प्लीज ट्राई आफ्टर सम टाइम.
पत्नी:  बंद करो अपनी बकवास !
पति:  प्रेस CTRL + ALT + DEL टू री-स्टार्ट द सिस्टम.
पत्नी:  तुम नही सुधरोगे.
पति:  रिपोर्ट दिस एरर टू माइका-वेबसाइट.
पत्नी:  मैं जा रही हूँ.
पति:  थैंक यु फॉर यूजिंग कूल ऑपरेटिंग सिस्टम. काइंडली यूज दिस फॉर्म टू सेंड योर फीडबैक.
पत्नी:  आइन्दा मुझसे बात करने की कोशिश मत करना.
पति:  नॉव यु केन शटडाउन.
पत्नी:  हुंह !!!!!
पति:  डोंट फोरगेट तो टर्न ऑफ यूपीएस.
 

 - सुलभ

19 comments:

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" said...

ये चैट मैंने बहुत दिन पहले कहीं पढ़ा था ! पर है तो मजेदार, एक बार और लुत्फ़ उठाया !

सुलभ § सतरंगी said...

@ Indranil Bhattacharjee जी,
आपकी प्रर्तिक्रिया के लिए धन्यवाद.
तक़रीबन २ साल पहले एक मेरे एक ब्लॉग वर्डप्रेस पर पोस्ट था. परन्तु अब वह अकाउंट सक्रीय नहीं है.

दिगम्बर नासवा said...

मजेदार चेट ... आगे की चेट घर पर होती है उसको भी बताएँ जब पत्नी का बेलन ठक से सिर पर लगता है ......
हा हा मजेदार सुलभ जी ....

M VERMA said...

क्या चैटिंग की है
बहुत मजेदार

पी.सी.गोदियाल said...

और अंत में
पत्नी: व्हट काईंड ऑफ़ हसबेंड यू आर ?
पति: यू आर यूजिंग पाइरेटेड वर्जन :)

Udan Tashtari said...

मजेदार..हा हा!

सुलभ § सतरंगी said...

वाह गोदियाल जी,

आपने जो फाइनल टच दिया... मजा आ गया.

लोकेश Lokesh said...

हा हा
मज़ेदार

और ये पायरेटेड वर्सन ! :-)

डॉ टी एस दराल said...

इस चैट के बाद पति ने घर आने की जुर्रत कैसे की होगी।

sujit kumar lucky said...

चैटिंग का टेक्निकल वर्जन अति मनोरंजक है

राज भाटिय़ा said...

मजेदार, अब जरा घर पर इन मोहदय पर क्या बीती वो भी बताये, धन्यवाद
वेसे तरीका अजमाया जा सकता है फ़ोन पर भी

अभिषेक ओझा said...

'प्लीज इंटर पासवर्ड' तो आया ही नहीं :)

अल्पना वर्मा said...

हा हा हा!
यह भी खूब रही.
मज़ेदार!

वन्दना said...

ye chaating to bahut hi mazedar rahi..........kash sab patiyo aur patniyon ki ek baar chatting ho jani chahiye phir dekhiye har ghar ka naksha..............hahahaha.

महफूज़ अली said...

हा हा हा हा हा...मजेदार....

रचना दीक्षित said...

बहुत जबरदस्त चैट है ये तो इसके साइड इफेक्ट के बारे में भी सोचना पड़ेगा

kshama said...

Ha,ha,ha!

hem pandey said...

दिलचस्प.

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

Very funny!

लिंक विदइन

Related Posts with Thumbnails

कुछ और कड़ियाँ

Receive New Post alert in your Email (service by feedburner)


जिंदगी हसीं है -
"खाने के लिए ज्ञान पचाने के लिए विज्ञान, सोने के लिए फर्श पहनने के लिए आदर्श, जीने के लिए सपने चलने के लिए इरादे, हंसने के लिए दर्द लिखने के लिए यादें... न कोई शिकायत न कोई कमी है, एक शायर की जिंदगी यूँ ही हसीं है... "